केंद्रीय मंत्री शेखावत ने ‘गंगा आमंत्रण’ यात्रा की शुरूआत, दिया क्लीन गंगा का संदेश

ऋषिकेश: अब तक की सबसे बड़ी गंगा आमंत्रण (Ganga Aamantran) यात्रा गुरुवार से शुरू हो गई. देवप्रयाग से गंगासागर तक यह यात्रा 34 दिनों में संपूर्ण होगी. गंगा की अविरलता और निर्मलता को बनाए रखने के लिए केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत (gajendra singh shekhawat) और प्रदेश के कैबिनेट मंत्री धन सिंह रावत (Dhan Singh Rawat) ने इंडियन एयर फोर्स और भारतीय सेना के जवानों के साथ देवप्रयाग से रामझूला तक गंगा में रिवर राफ्टिंग कर क्लीन गंगा का संदेश दिया.

रामझूला स्थित शत्रुघ्न घाट पर पहुंचकर केंद्रीय जल शक्ति मंत्री ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया. उन्होंने कहा कि गंगा की निर्मलता और अविरलता बनाए रखने के लिए जिस तरह के इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट की आवश्यकता है उसके लिए केंद्र सरकार प्रयास कर रही है. गंगा को निर्मल बनाने के लिए जन आंदोलन की जरूरत है.

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने जनचेतना जागरण के उद्देश्य से नमामि गंगे के अभियान को शुरू किया है. इसमें गंगा को क्लीन करने के लिए गंगा आमंत्रण कार्यक्रम आयोजित किया गया है. इस दौरान उन्होंने कहा कि मां गंगा देश की 42 प्रतिशत जनता के जीवन का आधार है. इसकी स्वच्छता के लिए लोगों के मन में उत्तरदायित्व का भाव जगाना जरूरी है.

इस दौरान कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल ने कहा कि क्लीन गंगा अभियान की शुरूआत देवप्रयाग से की गई है. जोकि रामझूला, हरिद्वार, बिजनौर, गढ़मुक्तेश्वर समेत देश के विभिन्न राज्यों से होकर गंगासागर में समाप्त होगा.

ये भी पढ़ें:- ऑस्ट्रेलियाई कपल ने बद्रीनाथ मंदिर में हिंदू रीति-रिवाजों से रचाई शादी