पंचों ने रेप आरोपियों को दी 5-5 जूते मारने की सजा, आहत किशोरी ने उठाया ये कदम

अलीगढ़: देश एक ओर जहां कोरोना वायरस महामारी से जूझ रहा है, वहीं उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले से एक हैरान करने वाली घटना सामने आई हैं. यहां एक रेप पीड़िता ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. दरअसल, गांव की पंचायत ने दोनों आरोपियों को सजा के तौर पर उन्हें पांच-पांच जूते मारे और मुंह काला कर छोड़ दिया. पीड़िता इस बात से आहत थी, जिसके बाद उसने ऐसा कदम उठाया.

मामला अलीगढ़ जिले के दादों थाना क्षेत्र के एक गांव का हैं. जानकारी के मुताबिक, गांव निवासी किशोरी (17) 23 अप्रैल की सुबह शौच के लिए खेत गई थी. घर लौटते समय गांव के दो युवकों ने उसे पकड़ लिया और खेत में ले गए. दोनों आरोपियों ने किशोरी के साथ गैंगरेप किया. घटना को अंजाम देने के बाद दोनों आरोपी फरार हो गए. किशोरी ने घटना की जानकारी घर पहुंच कर अपने परिजन को दी.

पीड़िता और आरोपियों के एक ही जाति के होने के कारण घटना के संबंध में पुलिस से शिकायत नहीं की गई. बीते 25 मार्च को बिरादरी के सक्षम लोगों और आरोपियों के परिजन ने पंचायत बुलाई. पंचायत में दोनों आरोपियों का मुंह काला करने के साथ पीड़ित किशोरी के हाथों पांच-पांच जूते दोनों आरोपियों को लगवाए गए और मामले को रफा-दफा कर दिया गया.

पंचायत के फैसले से आहत पीड़िता ने घर के कमरे की छत पर लगे कुंदे में चुनरी डालकर फांसी लगा ली. किशोरी के आत्महत्या करने पर घटना की जानकारी किसी ग्रामीण ने पुलिस को दे दी. जानकारी होने पर एसपी ग्रामीण अतुल कुमार, सीओ अतरौली प्रशांत सिंह फोर्स और फील्ड यूनिट की टीम के साथ मौके पर पहुंच गए.

पुलिस ने किशोरी के पिता की तहरीर पर गांव के शिशुपाल और विनोद के विरुद्ध सामूहिक दुष्कर्म पॉक्सो ऐक्ट में रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई करते हुए दोनों को गिरफ्तार कर लिया. एसएसपी मुनिराज ने बताया कि दादो क्षेत्र में किशोरी के साथ हुई घटना के मामले में पुलिस ने हत्या और दुष्कर्म के मामले में रिपोर्ट दर्ज कर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर विधिक कार्रवाई करते हुए जेल भेज दिया है. पुलिस मामले में अन्य पहलुओं पर जांच में जुटी हुई है.

ये भी पढ़ें:- ठीक होने के बाद कनिका कपूर ने तोड़ी चुप्पी, पोस्ट शेयर कर कही ये बात