प्रतिभा सिंह संवार रहीं है वाराणसी के बाल भिक्षुओं की जिंदगी, ऐसे बना रही है आत्मनिर्भर

Pratibha Singh

वाराणसी/लखनऊ: बाल भिक्षावृत्ति रोकने व बाल भिक्षुओं को सबल बनाने के लिए वाराणसी जिले की प्रतिभा सिंह पिछले सात सालों से प्रयास रत है. तो वहीं, अब प्रदेश सरकार ने भी इन बाल भिक्षुओं को चिन्हित कर एक विशेष कार्य योजना जनपदीय स्तर पर लागू की है. जिसके तहत बाल भिक्षुओं को शिक्षा की दिशा में प्रेरित करने और उनके माता-पिता को रोजगार देने का कार्य योगी सरकार द्वार किया जा रहा है.

प्रतिभा सिंह ने पेश की नजीर
प्रतिभा सिंह ने अपने घर को स्‍कूल में तब्‍दील कर भीख मांगने वाले बच्‍चों को शिक्षा की मुख्‍यधारा से जोड़ते हुए उनको मिड-डे-मील की सुविधा भी मुहैया करा रही हैं. उन्‍होंने अब तक ऐसे करीब 118 बच्‍चों को शिक्षित कर उनका दाखिला कान्‍वेंट स्‍कूल में करा चुकी हैं. जरूरतमंद महिलाओं और युवाओं को रोजगार की मुख्‍यधारा से जोड़ दूसरे लोगों के समक्ष एक नजीर पेश की है.

शिक्षा की दिशा में बाल भिक्षुओं को कर रहीं प्रेरित
बाल भिक्षुओं के हाथों में किताब थमाने वाली प्रतिभा ने बताया कि पिछले सात सालों से मैं जरूरतमंद परिवारों व बच्‍चों के भविष्‍य को संवारने का काम कर रही हूं. आस–पास के इलाकों में बाल भिक्षुओं की बढ़ती संख्‍या को देख मैंने अपने ही घर में इन जरूरतमंद बच्‍चों के लिए स्‍कूल खोलने का फैसला लिया. जिसके बाद दूसरे लोग भी इन बाल भिक्षुओं की मदद को आगे आने लगे.

माता-पिता को भी किया प्रेरित
इसके साथ ही झुग्गी-झोपड़ी व मलिन बस्तियों में रहने वाले गरीब परिवारों के बच्‍चों व उनके अभिभावकों को प्रेरित किया. जिससे धीरे-धीरे बाल भिक्षुओं के कदम शिक्षा की दिशा में बढ़ने लगे.

योगी सरकार की मुहिम ला रही रंग
कहा कि सीएम योगी आदित्‍यनाथ द्वारा प्रदेश में बाल भिक्षावृत्ति के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान से दूसरे प्रदेशों को भी प्रेरणा लेनी चाहिए. उनके द्वारा प्रदेश में बाल भिक्षावृत्ति के विरूद्ध शुरू किए गए अभियान से जबरन बाल भिक्षा मंगवाने वालों पर कार्रवाई किए जाने से बाल भिक्षावृत्ति पर लगाम लगेगी.

ये भी पढ़ें:- UP में ग्रेडेड रीडिंग बुक्‍स के जरिए होगा बच्चों में बुनियादी शिक्षा का विकास, डेढ़ करोड़ छात्रों को दी जाएगी किताब

VOI News पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूबफेसबुकटेलीग्राम और ट्विटर पर फॉलो करें.