‘ट्रेस, टेस्ट एंड ट्रीट’ नीति को प्रभावी ढंग से लागू रखने के CM Yogi ने दिए निर्देश

Uttar Pradesh

लखनऊ, 17 जुलाई: कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव और इलाज के संबंध में सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने ‘ट्रेस, टेस्ट एंड ट्रीट’ की नीति को प्रभावी ढंग से लागू रहने के निर्देश दिए। सीएम ने कहा कि कोरोना संक्रमण पूरी तरह समाप्त नहीं हुआ है। इस संबंध में थोड़ी लापरवाही भी भारी पड़ सकती है। इसे ध्यान में रखकर कोरोना प्रोटोकॉल का पूरी तरह पालन सुनिश्चित कराया जाए।

सीएम योगी आदित्यनाथ आज यानी 17 जुलाई को अपने सरकारी आवास 5, कालिदास मार्ग पर आहूत एक उच्चस्तरीय बैठक में प्रदेश में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के संबंध में विशेषज्ञों के भविष्य के आकलनों के दृष्टिगत विशेष ध्यान दिए जाने की आवश्यकता है। सभी संबंधित विभाग इस संबंध में पूरी सतर्कता बरतें।

कहा कि अन्य राज्यों से प्रदेश में आने वाले लोगों की इन्फ्रारेड थर्मामीटर एवं रैपिड एन्टीजन के माध्यम से व्यापक स्क्रीनिंग कराई जाए। अधिक संक्रमण वाले राज्यों से आने वाले लोगों हेतु निगेटिव आरटीपीआर रिपोर्ट अथवा कम्पलीट कोरोना वैक्सीनेशन की अनिवार्यता पर विचार किया जाए। इस संबंध में शीघ्र एक एसओपी भी निर्गत की जाए।

बैठक के दौरान अवगत कराया गया कि विगत 24 घंटों में राज्य में कोरोना संक्रमण के 81 नए मामले प्रकाश में आये हैं। इसी अवधि में 106 संक्रमित व्यक्तियों को इलाज के बाद डिस्चार्ज किया गया है। वर्तमान में प्रदेश में कोरोना संक्रमण के एक्टिव मामलों की संख्या 1,310 है। पिछले 24 घंटों में प्रदेश में कुल 2,63,450 कोरोना टेस्ट किए गए।

राज्य में अब तक कुल 06 करोड़ 21 लाख 16 हजार 707 कोरोना टेस्ट सम्पन्न हो चुके हैं। राज्य में कोरोना संक्रमण की रिकवरी दर 98.6 प्रतिशत है। बैठक के दौरान सीएम को अवगत कराया गया कि मेडिकल कॉलेजों में पीडियाट्रिक आईसीयू के निर्माण की कार्यवाही तेजी से प्रगति पर है। भारत सरकार द्वारा ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए दवा प्रदान की जा रही है, जिसे मरीजों को उपलब्ध कराया जा रहा है।

राज्य में 541 ऑक्सीजन संयंत्रों के निर्माण की स्वीकृति प्राप्त हुई है। इनमें से 166 ऑक्सीजन संयंत्र स्थापना के पश्चात क्रियाशील हो गए हैं। मुख्यमंत्री ने उपलब्ध ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर्स को निरन्तर कार्यशील बनाए रखने के लिए उनके मेंटेनेन्स की समुचित व्यवस्था किए जाने निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में स्वास्थ्य एवं चिकित्सा सुविधाओं को और सुदृढ़ एवं सुगम बनाने के लिए हेल्थ एटीएम की व्यवस्था को प्रोत्साहित किया जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वैक्सीनेशन कोविड संक्रमण के प्रति एक सुरक्षा कवच है। कोरोना संक्रमण के संबंध में भविष्य के आकलनों के दृष्टिगत बड़ी संख्या में कोरोना वैक्सीनेशन कराये जाने पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि कोरोना वैक्सीन की निरन्तर एवं पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करते हुए कोरोना टीकाकरण का कार्य तेजी से आगे बढ़ाया जाए। निर्बाध एवं सुव्यवस्थित ढंग से संचालित किया जाए।

ये भी पढ़ें:- UP: Kanwar Yatra को लेकर कांवड़ संघों से संवाद में जुटी योगी सरकार

कोविड वैक्सीनेशन के लिए ऑनलाइन पंजीकरण की प्रक्रिया को प्रोत्साहित किया जाए। मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि विगत दिवस तक राज्य में कोरोना वैक्सीन की कुल 03 करोड़ 99 लाख 35 हजार 718 डोज एडमिनिस्टर की जा चुकी हैं। आज यह संख्या 04 करोड़ डोज से अधिक हो जाएगी।

वॉयस ऑफ इंडिया न्यूज़ के Facebook पेज को लाइक करें और हमारे साथ जुड़ें। आप हमें Twitterkooapp और Telegram पर भी फॉलो कर सकते हैं। हमारा Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें– Youtube