UP में सभी भर्ती परिक्षा कराएगी एक ही एजेंसी, सीएम योगी ने दिए निर्देश

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने एक अहम फैसला लिया है. जिसमें वह यूपी में नेशनल रिक्रूटमेंट एजेंसी की तरह ही सभी भर्ती परिक्षांए एक ही एजेंसी से कराएगी. इस एजेंसी के गठन के लिए भी सीएम योगी आदित्यनाथ ने अफसरों को आदेश दे दिए हैं. इसके साथ ही अफसरों को यह भी हिदायत दी गई है कि किसी भी कार्यालय में कोई भी फाइनल परीक्षा सात दिन से अधिक न रुके.

गुरुवार को लोकभवन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वरिष्ठ अधिकारियों के अयोजित बैठक में निर्देश दिए कि सरकार के विभागों और उपक्रमों में भर्ती परीक्षाओं को नियमित और समयबद्ध तरीके से पूरा किया जाए. इसके लिए केंद्र सरकार की तरह ही राज्य में सभी तरह की भर्तियों की परीक्षाओं के संचालन को करने के लिए एक ही एजेंसी बनाई जाए. हाल ही केंद्रीय कैबिनेट ने नेशनल रिक्रूटमेंट एजेंसी को गठित करने का अहम फैसला लिया था.

योगी ने सभी सरकारी कार्यालयों समयबद्ध ढंग से ई-ऑफिस प्रणाली से जोड़ने के लिए कहा है और इसके साथ ही तय प्रक्रिया के तहत शासकीय कार्यों में त्वरित निर्णय लेने को भी कहा है. सभी विभागों और उसके आधीन आने वाले कार्यालयों में पत्रावलियां सात दिनों से अधिक न रुके. तीन दिन से ज्यादा समय तक अगर कोई पत्रावली रुकती है तो उसके लिए भी संबंधित स्तरों पर जवाबदेही तय की जाएगी. इसके साथ ही सभी सरकारी कार्यालयों में काम करने वाले लोगों की रोजाना उपस्थिति के निर्देश देते हुए योगी ने कहा कि वरिष्ठ अधिकारी इसका आकस्मिक निरिक्षण समय- समय पर करते रहें.

टीम-11 की बैठक में योगी आदित्यनाथ ने कहा कि निवेश मित्र पोर्टल के प्रभावी तरीके से संचालन के लिए विशेषज्ञों की तैनाती पर भी विचार करें और इसका कुशल रूप से संचालन करें. यूपी में अगले एक से सवा साल के दौरान डेढ़ लाख करोड़ रूपए तक के निवेश को अकर्षित करने के लिए रूपरेखा तैयार की जाए. वहीं योगी ने यूपी में 98.5 फीसद औद्योगिक व व्यावसायिक इकाइयों के सुचारू रूप से चलने पर संतोष जताया है.

ये भी पढ़ें:- योगी सरकार UP को बनाएगी स्वदेशी खिलौनों का हब, लोगों को मिलेगा रोजगार

VOI News पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक, टेलीग्राम और ट्विटर पर फॉलो करें.