तांत्रिक के कहने पर पिता ने ढाई साल की बेटी का दबाया गला और फिर…

मुजफ्फरनगर: उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले से एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई हैं. यहां एक पिता ने अपनी ढाई साल की बेटी की बलि दे दी. घटना को अंजाम देने के बाद पिता ने बेटी के शव को जमीन में दफना दिया. वहीं, घटना की जानकारी मिलने के बाद मृतक बच्ची की मां ने ककरोला थाने पर जाकर हत्या की सूचना दी.

सूचना पर पुलिस पुलिस ने हत्यारोपिता और तांत्रिक को गिरफ्तार कर. पति की निशानदेही पर शव बरामद कर लिया है. पिता का कहना है कि घर में क्लेश रहता था और बेटी उसके पास नहीं आती थी, इसलिए तांत्रिक के कहने पर घटना को अंजाम दिया. जानकारी के मुताबिक, मामला मुजफ्फरनगर के मीरापुर थाना क्षेत्र के गांव सिकंदरपुर का है.

सिकंदरपुर गांव निवासी वाजिद पुत्र खुर्शेद अपनी पत्नी रिहाना और 5 बच्चों के साथ यहां ककरौली थाना क्षेत्र के खाईखेड़ा स्थित एक भट्टे पर पथेर का काम करता है. मेरठ के रसीदनगर निवासी इरफान पुत्र रफीक भी भट्टे पर ही श्रमिक है, जो तांत्रिक भी है. रविवार रात में वाजिद ने अपनी ढाई साल की सबसे छोटी बेटी तरन्नुम की गला दबाकर और बाद में फावड़े से गर्दन काट कर हत्या कर दी.

इसके बाद शव को वही भट्टे के पास जमीन में दबा दिया. देर रात को बेटी की हत्या की जानकारी मिलने पर रिहाना ने ककरौली थाने पर पहुंचकर पुलिस को घटना की जानकारी देकर अपने पति और उसके साथी इरफान के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया. सीओ ने बताया कि ककरोली पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए हत्यारोपी पिता वाजिद और तांत्रिक इरफान को गिरफ्तार कर दोनों के निशानदेही पर जमीन में दबे बालिका के शव को बरामद कर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया.

सीओ के अनुसार पूछताछ में वाजिद ने बताया कि घर में क्लेश रहता था और सबसे छोटी बेटी तरन्नुम उसके पास नहीं आती थी. इस बारे में बताने पर तांत्रिक इरफान ने इस कार्य को करने के लिए कहा था कि बलि देने से सब ठीक हो जाएगा. उसी के कहने पर खुर्शेद ने इस घटना को अंजाम दिया. सीओ भोपा राम मोहन शर्मा ने बताया कि दोनों से पूछताछ की जा रही है.

ये भी पढ़ें:- गौतम बुद्ध नगर के लिए राहत की खबर, पिछले 48 घंटों में नहीं आया कोरोना का एक भी केस