कौन हैं पुष्पम प्रिया चौधरी, जो हमेशा ‘काले कपड़ों’ में आती हैं नजर

Pushpam Priya Choudhary

पटना. कोरोना वायरस महामारी के बीच 25 सितंबर, 2020 को बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान हो गया है. तो वहीं, इस चुनाव में जिसकी सबसे ज्यादा चर्चा है वो हैं पुष्पम प्रिया चौधरी. दरअसल, पुष्पम प्रिया चौधरी ने मार्च में ही राजनीतिक गलियारों में हलचल पैदा कर दी थी वो एक विज्ञापन के माध्यम से.

अखबारों में छपे एक विज्ञापन के मुताबिक, पुष्पम प्रिया चौधरी ने अपनी नई राजनीतिक पार्टी ‘प्लूरल्स’ बनाई और विधानसभा चुनाव में सीएम उम्मीदवार होने का दावा किया था. आपको बता दें कि सीएम पद की दावेदार बनने के साथ ही उनकी लोकप्रियता का कारण उनका ब्लैक आउटफिट है. जिसमें वो हमेशा नजर आती हैं.

दरअसल, चुनाव प्रचार के दौरान पुष्पम प्रिया चौधरी आम राजनेताओं की तरह साडी या कुर्ता पायजामा नहीं, बल्कि काले रंग की जींस और काले रंग के फुल स्लीव शर्ट में नजर आती हैं. यहां तक कि उनके चप्पल और घड़ी के साथ मास्क भी हमेशा काले रंग का होता है.

कपड़ों से लेकर जूतों तक को काला रखने वाली पुष्पम प्रिया ने इस बारे में भी बताया कि आखिर वो क्यों काले कपड़े पहनती हैं. पुष्पम की मानें तो बाकी नेता सफेद कपड़े क्यों पहनते हैं. संविधान में कोई ड्रेस कोड नहीं होता है. ऐसे में जिसकी जो मर्जी हो वो रंग की ड्रेस पहन सकता है.

बता दें कि, पुष्पम प्रिया चौधरी जनता दल (यूनाइटेड) के नेता और विधान परिषद के सदस्य रह चुके विनोद चौधरी की बेटी हैं. पुष्पम प्रिया के बारे में उनकी पार्टी की वेबसाइट पर लिखा है कि वो मशहूर लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर्स की डिग्री ली हैं.

पुष्पम ने पिता से अलग अपनी खुद की राजनीतिक पार्टी प्लुरल्स पार्टी बनाई है. जिसके साथ वो विकास का दावा कर रही हैं. पुष्पम प्रिया की पार्टी का चिन्ह सफेद घोड़ा है, जिस पर पंख लगे हुए हैं. मूल रूप से दरभंगा जिले की रहने वाली पुष्पम चुनाव के सिलसिले में काफी सारे दौरे करते नजर आ रही हैं. गांवों में घूम-घूमकर जनसंपर्क अभियान कर वो लोगों से समर्थन की मांग कर रही हैं.

ये भी पढ़ें:- Kangana के मुद्दे पर Fadnavis ने महाराष्ट्र सरकार को घेरा, कही ये बात

VOI News पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूबफेसबुकटेलीग्राम और ट्विटर पर फॉलो करें.