महाराष्ट्र: होटल ग्रैंड हयात में 162 विधायकों ने ली एकजुटता की शपथ

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में सत्ता को लेकर चल रहे सियासी घमासान के बीच सोमवार को कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना के 162 विधायकों ने एकजुटा की शपथ ली. इससे पहले एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा, हमें बहुमत को साबित करने में कोई समस्या नहीं होगी. जो पार्टी से निलंबित है, वह कोई आदेश नहीं दे सकता है. फ्लोर टेस्ट के दिन, मैं 162 से अधिक विधायकों को लाऊंगा. यह गोवा नहीं है, यह महाराष्ट्र है.

मुंबई के होटल ग्रैंड हयात में एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि हम यहा महाराष्ट्र की जनता के लिए यहां जुटे हैं. गठबंधन सिर्फ कुछ समय के लिए नहीं, लंबे समय तक के लिए हैं. भाजपा को निशाने पर लेते हुए उन्होंने कहा कि जो लोग केंद्र में हैं उन्होंने एक और राज्य में यह काम किया था. यह उनका इतिहास है. उन्होंने गलत तरीके से यह सरकार बनाई है.

पवार ने कहा कि महाराष्ट्र में कुल 288 सीटें हैं. सबसे ज्यादा जीते विधायक यहां पर हैं. कर्नाटक, गोवा, मणिपुर में बहुमत न होते हुए भी इन्होंने पावर का दुरुपयोग कर सरकार बनाई. देश का इतिहास अब बदलेगा, जिसकी शुरुआत महाराष्ट्र से होगी. अजित पवार को लेकर पहली बार खुलकर बोलते हुए शरद पवार ने कहा कि उन्हें विधायक दल का नेता चुना गया था, उन्होंने उसका दुरुपयोग किया, सबको गुमराह किया.

उन्होंने कहा कि व्हिप का उल्लंघन करने पर कार्रवाई होगी. हमने अजित पवार को निकालने का निर्णय ले लिया है. पवार ने कहा कि हमने कानून के विशेषज्ञों से भी सलाह ली है. अजित निकाले जाने के बाद कोई निर्णय नहीं ले सकते. तीनों पार्टियां मिलकर निर्णय लेंगी. यह गोवा मणिपुर नहीं महाराष्ट्र है. राज्यपाल हमारी बात जरूर सुनेंगे.

वहीं, दूसरी तरफ शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा, ‘हमारी लड़ाई सिर्फ सत्ता के लिए नहीं है, हमारी लड़ाई ‘सत्यमेव जयते’ के लिए है. जितना आप हमें तोड़ने की कोशिश करेंगे, उतना ही हम एकजुट होंगे.’

ये भी पढ़ें:- महाराष्ट्र: शिवसेना विधायकों को लेकर पहुंची होटल ग्रैंड हयात, परेड के जरिए साबित करेंगे ‘बहुमत’