जानिए 12वीं के बाद भारतीय सेना में कैसे बन सकते है अफसर, कितना होता है वेतन

साभार- swarajyamag

UPSC NDA: भारतीय सेना के सहास और पराक्रम की कहानियां बचपन से ही युवाओं को अपनी तरफ आकर्षित करती है. बड़े होने पर रक्षा सेनाओं में सरकारी नौकरी पाने की चाह रखने के साथ वो कड़ी मेहनत भी करते है. तो वहीं, रक्षा मंत्रालय के अधीन भारतीय थल सेना, भारतीय वायु सेना और भारतीय वायु सेना में काम करना भी सम्मान एवं प्रतिष्ठा, बेहतरीन जीवनशैली के साथ-साथ सर्वश्रेष्ठ कैरियर विकल्पों में से एक माना जाता है.

इन तीनों ही सशस्त्र सेनाओं में अलग-अलग भर्ती प्रक्रियाएं अलग-अलग रैंक के लिए आयोजित की जाती हैं. इसके साथ ही कई ऐसे मौके भी हैं जिनके जरिए उम्मीदवार तीनों ही सेनाओं की भर्ती प्रक्रिया में एक साथ शामिल हो सकते हैं. इन्हीं में से एक है संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की जाने वाली एनडीए परीक्षा है, जो कि 12वीं पास उम्मीदवारों को थल सेना में लेफ्टीनेंट, नौसेना में सब-लेफ्टीनेंट और वायु सेना में फ्लाइंग ऑफिसर के तौर पर सीधे अफसर बनने का मौका देती है जो कि छात्रों के अच्छा विकल्प भी है.

ऐसे होती है यूपीएससी एनडीए परीक्षा
राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के आर्मी, नेवी और एयर फोर्स विंग और नौसेना अकादमी में प्रवेश के लिए संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) द्वारा राष्ट्रीय रक्षा अकादमी परीक्षा का आयोजन हर वर्ष दो बार किया जाता है. हालांकि, वर्ष 2020 में कोरोना महामारी के चलते एनडीए 1 परीक्षा को एनडीए 2 परीक्षा के साथ ही आयोजित किया गया था. एनडीए परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए उम्मीदवारों को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं (इंटरमीडिएट या सीनियर सेकेंड्री या हायर सेकेंड्री –10+2) परीक्षा उत्तीर्ण होना आवश्यक होता है.

12वीं की परीक्षाओं में सम्मिलित होने वाले छात्र भी होते है आवेदन के पात्र
हालांकि, वायु सेना एवं नौसेना के लिए फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथमेटिक्स विषयों के साथ 12वीं पास होना जरूरी होती है. 12 वी बोर्ड परीक्षा में सम्मिलित होने जा रहे उम्मीदवार भी आवेदन के पात्र होते हैं, लेकिन इन उम्मीदवारों को निर्धारित तिथि तक उत्तीर्ण प्रमाण-पत्र जमा करना होता है. इसके अतिरिक्त उम्मीदवारों की आयु 16.5 वर्ष से कम और 19.5 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए.

ये भी पढ़ें:- इंजीनियरों के लिए स्टेट बैंक ने 16 पदों पर निकली वेकेंसियां, 27 जनवरी है अंतिम तारीख

यूपीएससी एनडीए की चयन प्रक्रिया में होते है दो चरण
यूपीएससी एनडीए की चयन प्रक्रिया में दो चरण होते हैं – लिखित परीक्षा और सेवा चयन बोर्ड (एसएसबी) टेस्ट और साक्षात्कार. एनडीए लिखित परीक्षा में 2.5 घंटे के दो पेपर होते हैं. ये प्रश्न पत्र गणित और सामान्य योग्यता परीक्षण विषयों के होते हैं. इन पेपरों के प्रश्न वस्तुपरक बहुविकल्पीय प्रकृति के अंग्रेजी एवं हिंदी दोनो ही भाषाओं में होते हैं. एसएसबी केंद्र पर उम्मीदवारों का शारीरिक मानक परीक्षण किया जाता है. दोनों चरणों और शारीरिक परीक्षण में योग्य पाए गए एसएसबी से अनुशंसित उम्मीदवारों की जांच सेना चिकित्सा अफसर बोर्ड द्वारा की जाती है.

इतना मिलते है वेतन
सैन्य अकादमियों में प्रशिक्षण के बाद कैडेट्स को सेना के विंग के अनुसार स्थायी कमीशन दिया जाता है. सेवा अकादमियों में प्रशिक्षण के दौरान कैडेट्स को 7वें वेतन आयोग के पे-मैट्रिक्स लेवल 10 के अनुसार 56,100 रुपए प्रतिमाह का स्टाइपेंड दिया जाता है. इसके अतिरिक्त कई अन्य सुविधाएं एवं लाभ दिये जाते हैं. वहीं, लेफ्टीनेंट के तौर पर नियुक्ति होने पर लेवल 10 (रु. 56,100 – 1,77,500 रुपयए) के अनुसार प्रतिमाह वेतन दिया जाता है. इसके अलावा सैन्य सेवा वेतन यानि एमएसपी (रु.15,500 प्रतिमाह) और कई प्रकार के भत्ते और राशन दिए जाते हैं.

VOI News पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूबफेसबुकटेलीग्राम और ट्विटर पर फॉलो करें.

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।