लॉकडाउन: पारस के बाद परम ने 30 फीसदी तक घटाए दूध के दाम, जानें नए रेट

देहरादून: लॉकडाउन का आज छठवां दिन है और इसका असर अब दूध बाजार पर भी पड़ने लगा है. बाजार में खपत कम होने के चलते दूध की डिमांड करीब 30 से 35 फीसदी तक घटी है. जिसके चलते पारस दूध कंपनी के बाद अब परम दूध कंपनी ने भी दूध के दाम कम किए हैं. कंपनी ने अपनी प्रत्येक वैरायटी में चार रुपए तक की कमी की है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, लॉकडाउन के कारण बाजार में पैकेट वाले दूध की डिमांड काफी घट गई है. मदर डेयरी के एरिया इंचार्ज प्रेम चंद ने बताया कि एक दिन में पहले 40 हजार लीटर की डिमांड थी, वो अब घटकर 32 हजार लीटर तक आ गई है. वहीं गोपाल जी कंपनी के रीजनल सेल्स मैनेजर हरीश चावला ने कहा कि 25 प्रतिशत तक दूध की डिमांड कम हो गई है.

पहले एक दिन में 22 हजार लीटर तक दूध आता था, जबकि एक हफ्ते में यह डिमांड घटकर 16-17 हजार लीटर हो गई है. ऐसा ही हाल परम दूध का भी है. कंपनी के एरिया मैनेजर मानवेंद्र कुमार मिश्रा ने बताया कि डिमांड 40 फीसदी तक कम हुई है. जहां देहरादून में पहले 12-13 हजार दूध आता था, वहीं अब वो 6-7 हजार लीटर तक रह गया है. वहीं पारस, मधुसूदन कंपनियों के दूध की डिमांड भी कम हुई है.

आज से परम, आनंदा दूध 4 रुपए लीटर सस्ता
दूध कंपनियों ने दाम भी 4 रुपए लीटर तक कम कर दिए हैं. गोपालजी कंपनी के आनंदा और जीप्लस दूध की कीमतें सोमवार से पूरे गढ़वाल मंडल में 4 रुपए प्रति लीटर सस्ती हो जाएंगी. कंपनी के गढ़वाल जोन के रीजनल सेल्स मैनेजर हरीश चावला ने बताया कि लोगों की मुश्किलों को देखते हुए कीमतें कम की गई हैं.

परम डेयरी लिमिटेड के एरिया मैनेजर मानवेंद्र कुमार मिश्रा ने कहा कि आम लोगों को लॉकडाउन के दौर में राहत देने के लिए कंपनी ने 4 रुपए कीमत घटाई है. दून समेत गढ़वाल जोन में डबल टोंड दूध 46 लीटर की जगह 42 रुपये लीटर और फुल क्रीम 58 के बजाए 54 रुपए लीटर मिलेगा.

पारस और मधूसूदन ने पहले कम किए रेट
लॉकडाउन के दौरान पारस और मधूसूदन कंपनियों ने रविवार को ही दूध के दाम कर दिए. पारस दूध के डिस्ट्रीब्यूटर सौरभ मलिक ने बताया कि रविवार को नए दाम पर दूध आ गया था. कंपनी ने 4 रुपए लीटर की कमी की है. रविवार को फुल क्रीम 27 और डबल टोंड 42 रुपए लीटर बिका. वहीं मधुसूदन कंपनी ने भी दूध के दाम में कमी कर दी है. रविवार से ही घटे हुए दाम पर दुकानदारों ने दूध बेचना शुरू कर दिया था.

ये भी पढ़ें:-Coronavirus को उत्तराखंड में किया महामारी घोषित, 31 मार्च तक सभी सिनेमाघर और कॉलेज बंद