पर्वतीय क्षेत्रों में बाइक पैरामेडिक से मरीजों को दी जा सकेगी त्वरित चिकित्सा: सीएम रावत

Dehradun News: उत्तराखंड (Uttarakhand) के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (Trivendra Singh Rawat) ने बुधवार को स्वामी राम हिमालयन विश्वविद्यालय, जौलीग्रांट देहरादून और ग्लोबल हेल्थ एलायंस, यूनाइटेड किंगडम के मध्य एमओयू पर हस्ताक्षर किए. सीएम ने कहा कि दोनों संस्थाओं के मध्य इस समझौते से स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्तराखंड को काफी लाभ होगा.

दरअसल, ग्लोबल हेल्थ एलायंस, विभिन्न कोर्सेज के माध्यम से मेडिकल स्टाफ विशेष तौर पर पैरामेडिकल स्टाफ, नर्सिंग स्टाफ को क्वालिटी प्रशिक्षण देगा. इसी प्रकार मोटर बाइक पैरामेडिक प्रशिक्षण भी दिया जाएगा. सीएम ने कहा कि दोनों संस्थाओं के मध्य इस समझौते से स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्तराखंड को काफी लाभ होगा.

मोटर बाईक पैरामेडिक से पर्वतीय क्षेत्रों में मौके पर जाकर मरीजों को त्वरित चिकित्सा दी जा सकेगी. विश्व स्तरीय संस्था ग्लोबल हेल्थ एलायंस के द्वारा डिजाइन किये गए पाठ्यक्रमों से यहां के मेडिकल और पैरामेडिकल छात्रों का कौशल विकास होगा. रोजगार की दृष्टि से भी युवाओं को लाभ मिल सकेगा.

सीएम ने कहा कि देहरादून मेडिकल हब के रूप में उभर रहा है. हृदय रोग और डायबिटीज के इलाज की सुविधा पर विशेष ध्यान देना होगा. स्वामी राम हिमालयन विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. विजय धस्माना ने स्वामी राम हिमालयन विश्वविद्यालय के कार्यो की जानकारी देते हुए कहा कि उत्तराखंड में स्वास्थ्य सुविधा बढाना पहली प्राथमिकता है.

इस एमओयू से पैरामेडिकल स्टाफ की गुणवत्ता बढेगी. इस अवसर पर नई दिल्ली में ब्रिटिश हाईकमिश्नर जेन थाम्पसन, ग्लोबल हेल्थ एलायंस के डॉ. राजे नारायण, भारत में यूएनडीपी के मुख्य सलाहकार डॉ. राकेश कुमार, उत्तराखंड शासन में सचिव अमित नेगी, एसआरएचयू के कुलसचिव डॉ. विनीत महरोत्रा, डीन डॉ. मुश्ताक अहमद उपस्थित थे.

ये भी पढ़ें:- PM मोदी ने किया उत्तराखंड में 521 करोड़ की परियोजनाओं का लोकार्पण

VOI News पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूबफेसबुकटेलीग्राम और ट्विटर पर फॉलो करें.